back to homepage

विश्लेषण

सेव का बहुत दिलचस्प किस्सा

विष्णु नागर यह किस्सा मेरी ससुराल देवास का है। रिटायरमेंट के बाद पति ने मकान, पेंशन सबकुछ पत्नी के नाम करवा दी।पेंशन मिलने के दो साल बाद पति ने पत्नी

Read More

सुप्रीम कोर्ट की बाबा रामदेव को फटकार

राम पुनियानी पिछले कुछ दशकों में भारत में कई बाबाओं का उदय हुआ है. इसके पहले भी बाबा हुआ करते थे मगर इन दिनों बाबाओं का जितना राजनैतिक और सामाजिक

Read More

सांपों की सभा

‘तुम में जहर नहीं है, इसलिए तुम कमजोर हो!’ सांप ने चूहे से कहा. ‘जिसके अंदर जहर होता है, दुनिया उसकी इज्जत करती है…उनका सिक्का चलता है.’ चूहा ध्यान से

Read More

जैसा खाये अन्न, वैसा होवे मन : यथार्थ या विभ्रम?

डॉक्टर सलमान अरशद “जैसा खावे अन्न वैसा होवे मन” बहुत पुरानी उक्ति है। मेरे जैन मित्र इस उक्ति का सबसे ज़्यादा उपयोग करते हैं और इसके ज़रिये शाकाहार को जस्टिफाई

Read More

किस चिडिय़ा का नाम है भारतीय संस्कृति ?

सलमान अरशद क्या आप जानते हैं कि भारतीय संस्कृति किस चिडिय़ा का नाम है? अमूमन खानपान, रहन-सहन, तीज त्योहार, शादी-व्याह के तौर तरीकों और धर्म और धार्मिक कर्मकांड के सम्मिलित

Read More

सीएए : देश को बांटने का एक और औज़ार

राम पुनियानी जिस समय इलेक्टोरल बॉण्ड से जुड़ा बड़ा घोटाला परत-दर-परत देश के सामने उजागर हो रहा था, ठीक उसी समय केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने नागरिकता संशोधन अधिनियम

Read More

बहुसंख्यकवादी नैरेटिव को टेका लगाती फिल्में : स्वातंत्र्यवीर सावरकर

राम पुनियानी फिल्म जनसंचार का एक शक्तिशाली माध्यम है जो सामाजिक समझ को कई तरह से प्रभावित करता है. कई दशकों पहले भारत में ऐसी फिल्में बनी जो सामाजिक यथार्थ

Read More

वित्तीय और धार्मिक शक्तियों का शैतानी गठजोड़

हेमंत कुमार झा मोबाइल या लैपटॉप के कुछ बटन टीपिये, पलक झपकते लाखों करोड़ों रुपये इधर से उधर। तकनीक में आई इस क्रांति ने अर्थव्यवस्था को नई ऊंचाइयां दी तो

Read More

बेरोजगारी अब चुनावी मुद्दा है, क्या ‘पहली नौकरी पक्की’ के सहारे कांग्रेस इसे भुना सकती है

मल्लिकार्जुन खरगे और राहुल गांधी ने युवाओं के लिए नौकरी की गारंटी की घोषणा करके सत्ताधारी बीजेपी की राह मुश्किल कर दी है. बीजेपी को अब इससे बेहतर पेशकश करनी

Read More

मोदी राज में केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रमों में 40 प्रतिशत स्थायी नौकरियां घट गईं

रविंद्र पटवाल जैसे-जैसे 2024 लोक सभा चुनाव की सरगर्मियां बढ़ रही हैं, सतह पर बैठ चुके बुनियादी मुद्दे उभरकर सामने आने लगे हैं। राहुल गांधी की ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’

Read More