back to homepage

लेबर

बड़ा खुलासाः एल एंड टी कंपनी ने फ़रीदाबाद समेत देशभर के अपने ही 35000 कर्मचारियों को कैसे लूटा

मजदूर मोर्चा ब्यूरो फरीदाबादः सराय ख्वाजा से दिल्ली जाते हुए मेट्रो स्टेशन के पास बाईं तरफ जो एल एंड टी इन्फोटेक टावर नाम की बिल्डिंग खड़ी है, वह दरअसल इस

Read More

श्रम विभाग के खुद के हाल बदहाल, श्रमिकों के मदद की कहाँ उम्मीद…

        फरीदाबाद ममो : मजदूर मोर्चा की टीम ने जब श्रम विभाग के सेक्टर 12 स्थित करोड़ों रुपये के नए बने कार्यालय का दौरा किया तो वहां

Read More

नये श्रम कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन …अंदाज अपना-अपना

नये श्रम कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन …अंदाज अपना-अपना फरीदाबाद (म.मो.): 28 अक्टूबर को मोदी सरकार के बनाये दो नये श्रम कानूनों के खिलाफ दो मजदूर यूनियनों ने विरोध प्रदर्शन

Read More

कानून बन जाएँ तो लागू कौन करवाता है?

मज़दूरों के लिये तहसीलदार बडख़ल के पास नहीं है समय विवेक कुमार  राजू कन्वर्टर्स प्राइवेट लिमिटेड फैक्ट्री में काम करने वाले बद्री प्रसाद को कंपनी ने नौकरी खत्म होने पर

Read More

शहर की पुलिस अब श्रम कानूनों को ताक पर रखने वाली कम्पनियों और उनके कर्मचारियों के बीच पैसे देने दिलाने का काम भी करने लगी…

फरीदाबाद पुलिस अब बनी श्रम समझौता अधिकारी भी! विवेक कुमार फरीदाबाद : शहर की पुलिस अब श्रम कानूनों को ताक पर रखने वाली कम्पनियों और उनके कर्मचारियों के बीच पैसे

Read More

लेबर कोर्ट में चढ़ावे के हिसाब से इंस्पेक्टरों को मिलती है जिम्मेदारी

फरीदाबाद (म.मो.) स्टॉफ के अभाव में फरीदाबाद का लेबर कोर्ट मजदूरों को इंसाफ दिलाने की कोशिश में जुटा तो है लेकिन उसे नाकामी ज्यादा मिल रही है। श्रम न्यायालय फरीदाबाद

Read More

हजारों मजदूरों के ग्रेच्युटी के पैसे पूंजीपति धोखे से सिर्फ इसलिए हड़प लेते हैं क्योंकि उन मजदूरों के पास उनकी जॉइनिंग डेट को साबित करने के प्रमाण नही हैं।

गरीबों को नौकरी देना दूर, उनकी मेहनत की ग्रेच्युटी तक सरकार लुटवा रही है फरीदाबाद (म.मो.) मेदनीपुर पश्चिम बंगाल के रहने वाले 62 वर्षीय जगदीश चंद मैती 1993 से फरीदाबाद

Read More

एनडीटीवी को भी श्रमिक शोषण तभी दिखता है जब कोई तिकड़मी विधायक दिखाये

फरीदाबाद (म.मो.) बीते सप्ताह एनडीटीवी ने वीनस नामक एक स्थानीय कंपनी के उन 26 श्रमिकों की व्यथा कथा का बखान किया जिनके हाथ अथवा उंगलियां मशीनों की भेंट चढ़ चुके

Read More

मज़दूर तो वो काक्रोच है जो प्रलय के बाद भी जीने का हुनर जानता है, जो नहीं जानते वो सुशांत सिंह होने को मजबूर हो जाते हैं और वो मध्यम वर्ग ही है…

मोदी सरकार का अर्थशास्त्र धरा का धरा रह जाएगा जब लॉकडाउन  बेरोजगारी सिर्फ बेरोजगार को ही हिट नहीं करेगी विवेक कुमार की ग्राउंड जीरो रिपोर्ट पिछले दो महीनो में करोड़ों

Read More

“सर, वुड यू लाइक तो हैव वाटर? मैंने कहा कॉफ़ी, ओह सर आई एम् रियली वैरी सॉरी बीकॉज, अपार्ट फ्रॉम वाटर वी आर नॉट अलाऊ टू ऑफ़र यू ऐनीथिंग

उन्हें कोई कैसे आज़ाद कराये जन्हें अपने गुलाम होने की खबर नहीं? लॉकडाउन में बाल बढ़ कर गर्दन से नीचे आ गए और खुद को आईने में देखने के बाद

Read More